भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुबह / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » सुबह

गर्मी की शुरुआत ,
मैं खोलती हूँ खिड़की दूसरे ताल पर,
सूर्योदय से पहले हवा ठंडी है .
और पुकारती है मुझे ,-उठो! जागो !
मैं शांत बैठ लेती हूँ गहरी सांस
निकाल सारी हवा एक निश्वास में ,
झुकती हुई आगे
धीरे धीरे !
अगले ही पल
मेरे हरे भरे बगीचे की ताज़ी हवा
बहकर भर जाती है सीने में .
फिर से निकलती हूँ बासी सांस धीरे धीरे
आगे झुकते हुए .
और ताज़ी हवा को अन्दर लेते हुए
जैसे खड़ी होती हूँ सीधे !
चीं -चीं, चूँ -चूँ
मैं निगलती हूँ
चिड़ियों के स्वर भी
मैं जी रही हूँ
अब !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना