भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुबह / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूर बंजती घंटी
     कुकर की सीटी
     अनूप जलोटा के भजनों से
     गूंजता लाउडस्पीकर
     नल से टपकता पानी
     खुलते बंद होते शटर
     और गाड़ियों के
     तेज हाँर्न के बीच
     मोबाइल में अलार्म बजाता है
     और
     एक अजनबी सुबह हो जाती है।
     जागने पर अचंभित
     मैं खोजती हूँ
     सपने में चहकती चिड़ियों को।