भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुब्ह होता है शाम होता है / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुब्ह होता है शाम होता है
ख़ून-ए-नाहक़ मुदाम होता है

फेर लेते हो मुँह हिक़ारत से
ये जवाब-ए-सलाम होता है

ख़ौफ़ आता है जिस को मरने से
उस का जीना हराम होता है

आ के रिंदों में हो शरीक ऐ शैख़
छुप के पीना हराम होता है

कहते हो आप का यहाँ क्या काम
अर्ज़-ए-ग़म भी तो काम होता है

क्या कलाम उस की ख़ुश-नसीबी में
जिस से तू हम-कलाम होता है

फ़ित्ने है बे-क़रार उठने को
कौन महशर-ख़िराम होता है

आमद आमद है ऐ 'वफ़ा' किस की
आज क्या एहतिमाम होता है