भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुरक्षा परिषद् की मानी नां इसी दादागिरी दिखावै सै / जयसिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुरक्षा परिषद् की मानी नां इसी दादागिरी दिखावै सै
एशिया पै अमरीका अपना प्रभुत्व चाहवै सै
 
आज इराक कल थारा नम्बर करो ख्याल एशिया का
कती लूटणां चाहवै सै यो माल एशिया का
एक इराक की बात नहीं यो सवाल एशिया का
जै कट्ठे नहीं हुये तै आलिया यो काळ एशिया का
इस खुदा बण्या हांडै सबनै धमकावै सै
 
भारत चीन रूस इरान इराक नै एक मंच बणाणा चहिये
हमले के परिणाम गलत होंगे यो न्यूं धमकाणा चहिये
ओरां के घर में नां बड़्या करैं यो न्यूं समझाणा चहिये
फिर जै युद्ध होज्या तैं ना उलटा जाणा चहिये
मानवता की रक्षा करल्यो के रोज वक्त थ्यावै सै
 
सारी दुनिया नै बेरा सै इके खूनी खेल का
सद्दाम का नाम काम सै असली तेल का
पाडऩा ऊंट बणा दिया तम नै यो बिना नकेल का
कुछ भी भय ना मान रहा यो थारी सेल का
वोहे डर कै भाजै यो जिस कैडय़ां मुंह ठावै सै
 
नकेल घालणी जरूर पड़ैगी इस शैतान कै
नाक में दम कर राख्या इनैं पूरे जहान कै
तम सारे क्यूं बट्टा ला रहे अपणी श्यान कै
गुण्डे का हो जूत गुरू या चालो मान कै
इक दिन सबनै जाणां ‘जयसिंह‘ क्यूं घबरावै सै