भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूखी रेत में वर्षा जैसे / सरदार सोभा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
सूखी रेत में वर्षा जैसे
इस जग में
भूखों को मिलते हैं भूखे
या फिर कोई अधूरे

ऐसे भी तो हैं कुछ भूखे
चले आएँ जो
दाता-मन लोगों के द्वार

जब-जब भूखे चल कर आएँ
सखी-हृदय वे देते जाएँ
ललचहे लेते ही जाएँ
बढ़ती जाए उनकी भूख

फिर भी पेट भरे न उनका
क्षुधा मिटे न, बिलकुल ऐसे
सूखी रेत में वर्षा जैसे.
पर ऐसे भी हैं कुछ दाता
मिलते हैं जो
दूजे देने वालों से भी
अपने दान के आलोक में
और हो जाते हैं
उनसे एकाकार
बन जाते हैं पार ब्रह्म
तब नहीं रहता
शरीर का होना
और न होना
कोई शर्त.