भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सूधी गाय / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

च्यारूंमेर
मूंगीछम धरती

मुळकता-महकता खेत:
ऊमर रै बीसवैं पगोथियै ऊभ
पैलड़ै जापै सूं उठ’र
आळस मरोड़ती
          गोरड़ी कोई

रत्ती उजाड़ रो ई
ओळभो नीं थांनै
       थे पोमीजो
          मोदीजो
मारग-मारग आवूं
मारग-मारग जावूं
गांव चावी म्हैं थांरी
        सूधी गाय

कठै ई विचरूं
किणी नै कोई डर कोनी
म्हारै मूण्ड बंध्योड़ी है
             छींकी
म्हैं थांरी सूधी गाय !