भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूनी दिखती सड़कें, चुपचाप हवाएं बहती हैं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूनी दिखती सड़कें, चुपचाप हवाएं बहती है।
कौन समझेगा आज ख़ामोशी भी कुछ कहती है।

मायूस न हो यहां आग की उम्मीद रखने वाले!
लाख चढ़े राख, अंगारों में आंच मगर रहती है।

टूट जाते हैं सदियों से अडिग खड़े किनारे भी,
तूफान के आगोश में पल लहरें जब बहती हैं!

पांवो तले रौंदने वालों से है गुजारिश यही,
देखो, धरती भी सहने की हद तक ही सहती हैं!

यह हवा, यह आकाश कैद न करो सियासत वालो!
परवाज भरती चिड़िया न जाने कब से कहती है।