भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सून्नो गोद / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुहकै छै कोयलिया दिनैं दुपहरिया
घट लैकेॅ पनघट के गोरी धरि लेलकी डगरिया।

कानै छी ठोकी-ठोकी कपार,
ये धरती पर दुःख हमरोॅ अपार?

कहाँ चुकलां सून्नो छै गोदी,
घोॅर बहार सब्भै जी जराय छै दोदी-दोदी।
मुँह देखाय रोॅ जगहोॅ नै पतझड़ पहड़िया
कुहकै छै कोयलिया दिनैं दुपहरिया।

सब्भे रीझै छै बसंत ऋतु पावी केॅ,
कत्तेॅ सहबोॅ हम्में दुःख दाबी-दाबी केॅ।

आश भरोसोॅटूटलोॅ जाय छै दिन रात जागी केॅ,
हे विधाता! शरणोॅ में एैलोॅ छीं सब त्यागी केॅ।
आबेॅ बितलोॅ चललोॅ‘‘संधि’’ हमरोॅ उमरिया
कुहकै छै कोयलिया दिनैं दुपहरिया।