भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरज का फ़व्वारा-3 / इदरीस मौहम्मद तैयब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज के पास एक दिल है
और एक सीना है, जहाँ वह
अपने सोते बच्चों को छुपा सकता है
और मैं अपनी प्रेमिका का हाथ थामे
समुद्र किनारे टहलता हूँ
लहरें ख़ुशी में उमड़ती हैं
और हमारे क़दमों को
एक बिछड़े हुए दोस्त की तरह छूती हैं
वह उत्तेजित होकर क़हक़हा लगाती है
और भागने लगती है
मैं समुद्री रेत पर उसके पीछे भागता हूँ
मैं उसके बालों में सूरजमुखी का
फूल टाँकता हूँ ।
समुद्र नाराज़ हो उठता है
और एक बचकानी डाह से
लहरों के रेत के चेहरे पर
मारता है ठोकर
हम उसकी ओर मुड़ते हैं
और उसे हँसाने के लिए
फुसफुसाते हैं उसके कानों में ।

रचनाकाल : 26 जनवरी 1979

अंग्रेज़ी से अनुवाद : इन्दु कान्त आंगिरस