भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरज का फ़व्वारा-5 / इदरीस मौहम्मद तैयब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज
जब तुम्हारा गोल चेहरा दूर
किनारों में डूबता है
मेरा दिल उदासी के एक समुद्र में डूब जाता है
इसीलिए
कल आना, याद रखना ।

रचनाकाल : 26 जनवरी 1979

अंग्रेज़ी से अनुवाद : इन्दु कान्त आंगिरस