भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सूरज चाटी आं धोरां री / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज-चाटी आं धोरां री
उकळै माटी आं धोरां री

सड़क चाली छोरी बतावै
दौरी घाटी आं धोरां री

धोरां बिच्चै घायल जात्री
बांधै पाटी आं धोरां री

तड़ाछ खा पड़्‌यो हिरण एक
आंख्यां फाटी आं धोरां री

बूंद पड़ै पसवाड़ो फोरै
मुळकै माटी आं धोरां री