भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरज ने कहा / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल की तरह आज भी
जनता दोपहर की तपती धूप में खड़ी थी।
और कल की ही तरह
आज भी सूरज आया ;
अपनी तेज सुनहली किरणों को बिखेरता।
लेकिन आज वह उदास था
चूंकि मतगणना केन्द्र पर
सरकारी पहरा था।
आखिर हिम्मती सूरज
अपनी किरणों के साथ
मतगणना पेटियों को देखने गया।
उसने देखा
चुनावी दाव-पेंच में लिप्त लोग
जो बदल रहे थे
हार को जीत में
और सूरज लौटा
थका हारा,
पपड़ियाये होठों पर जीभ फेरते हुए
गुमसुम, उदास
और सूरज ने कहा
जनतंत्र खतरे में है।