भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सूरज हुवै क्यूं हलाल बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज हुवै क्यूं हलाल बाबा
मामूली कोनी औ सवाल बाबा

दो दाणा लै डूबैला आपां नै
रह-रह क्यूं आवै औ खयाल बाबा

आं रुखाळां ताण लाज गई समझो
बुट्ठी तलवार थोथी ढाल बाबा

आज भलांई काढो आंसू दांई
याद करोला थे म्हानै काल बाबा

आ रात अंधारी पण सोच कांई
आस बंधै : हुवै अगूण लाल बाबा