भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरज / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्याणी-समझणी सिंझ्यां
दिन-भर रै
तप्यै-थक्यै-हारियै सूरज नै
पोढायो आपरै
समंदर महलां में
पण भोर रो भायलो सूरज
भाख पाटियां पैली’ज
जाय पूग्यो
पूरब रै आंगणै ।