भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सेतु / बालकृष्ण काबरा ’एतेश’ / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वर्तमान और वर्तमान के बीच
मैं हूँ और तुम हो के बीच
यह शब्द सेतु ।

इसमें प्रवेश करते हुए
तुम प्रवेश करते हो ख़ुद के भीतर :
दुनिया जुड़ती है
जुड़कर हो जाती है एक गोल छल्ले की तरह।

एक किनारे से दूसरे तक
है हमेशा
एक देह तनी हुई :
एक इन्द्रधनुष।

मैं सोऊँगा इसके मेहराब के नीचे।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’