भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सेवा / अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
देख पड़ी अनुराग-राग-रंजित रवितन में।
छबि पाई भर विपुल-विभा नीलाभ-गगन में।
बर-आभा कर दान ककुभ को दुति से दमकी।
अन्तरिक्ष को चारु ज्योतिमयता दे चमकी।
कर संक्रान्ति गिरि-सानु-सकल को कान्त दिखाई।
शोभितकर तरुशिखा निराली-शोभा पाई।
कलित बना कर कनक कलश को हुई कलित-तर।
समधिक-धवलित सौधा-धाम कर बनी मनोहर।
लता बेलि को परम-ललित कर लही लुनाई।
कुसुमावलि को विकच बना विकसित दिखलाई।
ज्वलित हुई कर सरित-सरोवर-सलिल समुज्ज्वल।
उठी जगमगा परम-प्रभामय कर अवनीतल।
निज सेवा फल से ही हुई प्रात की किरण प्रति फलित।
विकसित सरसित सफलित लसित सम्मानित आभा बलित।