भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सैलाब / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बज रही हैं
सुन रहे हो
दूर से
अब बहुत नज़दीक है
नज़दीकतर
फिर वही बिलकुल वही बरसों पुरानी
घड़घड़ाहट आओ
हम सब
फिर दुआ माँगें
हमारे ज़िस्म के
हर एक मू से
इस दफा तो पैर निकलें
हम सब अपने अनगिनत पैरों से
अब के
भाग निकलें
छोड़ कर
घर और घरौंदे
नदियाँ नाले परिंदे
क़िस्से
घड़ घड़ड़ घड़ घड़घड़ाहट
घड़ड़ घड़ घड़ घड़घड़ाहट
घड़ड़ घड़ घड़ घड़घड़ाहट
घड़ड़ घड़ घड़ घड़घड़ाहट

रेगज़ारों की हथेली पर
पसरतीं
गडमड
लकीरें
देखता हूँ
सोचता हूँ
ज़िस्म में पसली नहीं है
नाफ़ की एवज़ इक गहरा कुआँ है
हर तरफ़
अब ख़ाक का गहरा धुआँ है
फल कहाँ है