भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सोचो थोड़ी देर / विजय गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आख़िर कब तक
सरकारों का बदल जाना
मौसम के बदल जाने की तरह
नहीं रहेगा याद

कब तक यही कहते रहेगें
इस बार गर्मी बड़ी तीखी है
बारिश भी हुई इस बार ज़्यादा
और ठंड भी पड़ी पहले से अधिक