भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोना के धरती / भुवनेश्वर सिंह भुवन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाय रे भाय! सुनी लहीं हमरॅ बात,
सुनिहें ध्यान लगाय रे!
सोना के धरती लूटल जाय!

जे धरती पर गंगा-जमुना,
सबके दुक्ख मेटाव रे,
जे धरती के भाल हिमालय,
लाखों मुकुट लजाय रे,
दुश्मन के छाती दहलाय।

जे धरती के माटी सोनॅ,
जहाँ पसीना अन्न रे,
जहाँ कमाबै भूखा-नंगा,
मोटकाँ मौज उड़ाय रे,
परदेशी लुटेरा ललचाय।

जबसें भेलै आपनॅ राजा,
रहलाँ आस लगाय रे,
सालों-साल अकालें बितलै,
सौंसे देश पिड़ाय रे,
सुरसा रं बेकारी बढ़लॅ जाय।
भाय रे भाय! सुनिहें ध्यान लगाय रे।
सोना के धरती लूटल जाय!