भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोहबत / मुत्तुलक्ष्मी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रकाश को ऊपर से रोक
ध्वनियों को संजोए रखे
वन के वादे पर भरोसा करके
घोसला बनाया मैं ने |

कभी कभार लग जाती
जंगली आग को
स्वयं वन
घनघोर बारिश की मदद से
बुझाकर
अमय देता |

अँधेरे के संग
नीरवता व्याप्त रही
ऐसे अमन चैन के माहौल में
खुद अपनी धार को परखती
छैनी की आवाज के साथ
लालच
जंगल के बाहर
खीचता रहता है ध्यान |

अनुवाद डॉ. एच. बालसुब्रहमण्यम‌