भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सो जा बेटी झूले में / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूल झूल झूले में
सो जा बेटी झूले में
धीरे धीरे डोरी खींचूँ
ले मैं तुझे झुलाती हूँ
सो जा बिटिया सो जा रानी
गाकर तुझे सुलाती हूँ

निंदिया जल्दी आना तू
चाँद सितारे लाना तू
एक झुनझुना लेकर आना
धीरे उसे बजाना तू

पलकों को झपकायेगी
धीरे से मुसकायेगी
नजर लगे न इसे किसी की
ऐसा टोना लाना तू

झुल झूल झूले में
बेटी सो जा झूले में
झूलेगी ये झूले में
सोयेगी ये झूले में