भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सो जा मेरे राज दुलारे / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सो जा मेरे नयन सितारे

तालाबों में कमल मूँद गये
तू भी नयन मूँद ले अपने
आयेंगे कुछ चित्र बनाते
नन्हें से मन में सुख सपने

उनसे बातें करना जी भर
सुन्दर खेल खेलना न्यारे

पंछी भी थककर लो देखो
अपनी माँ के पास सो गये
कलरव उनका शान्त हो गया
सुख सपनों में पड़े सो गये

तू भी चुप हो सो जा मुन्ने
नींद खड़ी है तेरे द्वारे

सूर्य देवता अपने घर में
नींद मगन हैं नभ पलने पर
इसीलिये तो तारों वाली
झिलमिल डाली माँ ने चादर

मैं भी तुझे उढ़ा दूँ लालन
अब तो बेटा चुप सो जा रे

नन्हें नन्हें फूलों को तो
रजनी की बाँहें दुलराती
पवन झुलाती उनको पलना
थपकी देती लोरी गाती

आ री निंदिया, आ री निंदिया
गाती हूँ मैं तू सो जा रे