भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सौभाग्य / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसा सौभाग्य कि जंगलों में
रसभरियाँ चुन सकता हूँ
मेरा ख़याल था कि
न अब जंगल हैं न रसभरियाँ

कैसा सौभाग्य कि पेड़ की छाया में
लेटा रह सकता हूँ
मेरा ख़याल था कि पेड़
अब छाया नहीं देते ।

कैसा सौभाग्य कि मैं तुम्हारे साथ हूँ
और मेरा दिल इतना धड़क रहा है
मेरा ख़याल था कि आदमी
अब बेदिल हो गया है ।