भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्कूल / गिरीश पंकज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखों का तारा स्कूल,
अपना तो न्यारा स्कूल ।

ज्ञान बाँटता बच्चों को नित,
कभी नहीं हारा स्कूल ।

छुट्टी के दिन रहे अकेला,
हाँ, तब बेचारा स्कूल ।

जैसे मां को मैं प्यारा हूँ,
मुझको है प्यारा स्कूल ।

आँखों का तारा स्कूल ।
अपना तो न्यारा स्कूल ।