भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

स्त्री को देखना / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


दूर से दिखता है पेड़

पत्तियाँ नहीं, फल नहीं


पास से दिखती हैं डालें

धूल से नहाई, सँवरी ।


एक स्त्री नहीं दिखती कहीं से

न दूर से, न पास से ।


उसे चिता में

जलाकर देखो

दिखेगी तब भी नहीं ।


स्त्री को देखना उतना आसान नहीं

जितना तारे देखना या

पिंजरा देखना ।