भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

स्मृति गंध सूत्र / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीच में है तो हुआ करें
पहाड़ या नहीं या खंदक
या और भी कुछ-कोई

दुनिया का छोटी या बड़ी होना
अर्थ रखते हुए भी है अर्थहीन
हमारे लिए

इस छोर मैं
उस छोर तुम
और सांस ले रहे सटे-सटे !

साथ-साथ बांधे है हमें जकड़कर
स्मृति गंध-सूत्र !