भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्याणा लोगां सुणो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बै आवै
गूंगां नै टाळै
तिलक करै
पीठ थपथपावै
उणारी गूंग नै जगावै
बिड़दावै
गूंगा नै गोळी रा गुण बतावै
अष्टपौर अभ्यास करावै

सात खून माफ री छूट देय र
सड़का माथै खुला छोड देवै
थोड़ी ताल पछै सुणीजै
पग-पग धमाका

दुनिया रा
स्याण लोगां सुणो-
थांनै
अर थांरी अक्कल नै
खुणियां तांई सिलाम !