भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वप्न रक्षक / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ, स्वप्नद्रष्टा
दो मुझे तुम्हारे सभी स्वप्न,

दो मुझे तुम्हारे
मन की सभी तानें,
कि इन्हें लपेट कर रख सकूँ
नीले बादलों के कपड़ों में

दुनिया की कठोर-खुरदरी उँगलियों
से दूर।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’