भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्वर / ज़्देन्येक वागनेर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थके हुए स्वर
समीर में नाचते हैं।
अभी खेतों पर
सूर्यमुखी सोते हैं।
सफ़ेद चाँद आकाश से
तितलियों को देखता है
और कोई आज तुमसे
कहीं प्यार करता है।


और अब यही कविता चेक भाषा में

Samohlásky



Znavené samohlásky
tančí si v lehkém vánku.
Na louce sedmikrásky
skládají hlavy k spánku.
Z oblohy na bělásky
bledý se měsíc dívá
a tvoje dlouhé vlásky
dnes kdosi jiný líbá.