भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हँसी / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिंजड़ा इतने दिन बंद रहा
कि एक चिड़िया पैदा हो गई उसमें

इतने दिन खामोश रही चिड़िया
पिंजड़ा खुला
खामोशी की जंग लगा

खामोशी इतनी देर तक रही कि
काले सींखचों के पीछे से
फूट पड़ी हँसी