भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हक़ीक़त / रोके दाल्तोन / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चार घण्टों तक यातना देने के बाद
अपाचे तथा दो अन्य पुलिसवालों ने
क़ैदी को होश में लाने के लिए
उस पर बाल्टी भर पानी फेंकते हुए कहा :

‘‘कर्नल ने तुम्हें यह बताने का
हुक़्म दिया है
कि तुम्हें अपनी खाल बचाने का
एक मौक़ा दिया जा सकता है ।
अगर बता सको तुम
कि हममें से किसकी आँख शीशे की है,
तो तुम यातना से बच जाओगे ।‘‘

ग़ौर से उन अधिकारियों को देखते हुए
क़ैदी ने एक की तरफ़ इशारा किया :
‘‘उसकी, उसकी दाईं आंख शीशे की है।‘‘

और हक्के-बक्के पुलिसियों ने कहा :
‘‘तुम बच गए !
पर कैसे किया तुमने यह ?
जबकि तुम्हारे सभी दोस्त चूक गए
क्योंकि ये आँखें अमेरिकी हैं,
और इसलिये सर्वोत्कृष्ट भी हैं ।"

‘‘बहुत आसान है‘‘, क़ैदी ने कहा
उसे महसूस हो रहा था
कि वह फिर से बेहोश होने वाला है,
‘‘एक यही आँख थी,
मेरी तरफ़ देखते समय
जिसमें नफ़रत नहीं थी ।‘‘

बेशक, उन्होंने उसे यातना देना जारी रखा ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र