भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हक मुझे बातिल आशना न करे / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हक मुझे बातिल आशना न करे
मैं बुतों से फिरूँ ख़ुदा न करे

दोस्ती बद-बला है उस में ख़ुदा
किसी दुश्मन को मुब्तला न करे

है वो मक़तूल काफ़िर-ए-नेमत
अपने क़ातिल को जो दुआ न करे

रू मेरे को ख़ुदा क़यामत तक
पुश्त-ए-पा से तेरी जुदा न करे

नासेहो ये भी कुछ नसीहत है
कि ‘यक़ीं’ यार से वफ़ा न करे