भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

हटो फिरंगी हटो यहाँ से / गुमानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हटो फिरंगी हटो यहाँ से
छोड़ो भारत की ममता
संभव क्या यह हो सकता है
होगी हम तुममें समता?