भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हत्भाग / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गूंगो गुड़ रा गीत गावै
बोळियो सरावै

सजी सभा में
पांगळो पग पम्पोळ बोल्यो-
               म्हैं नाचसूं !

आंधो आगै आयो
बाड़ो बोलतो-
      थांरो कांई ठेको लियोड़ो है
      म्हनै ई देख्ण द्यो !

कळावंत !
काठी झाल थारी कलम नै