भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हमका मेला में चलिके घुमावा पिया / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमका मेला में चलिके घुमावा पिया
झुलनी गढ़ावा पिया ना ।

अलता टिकुली हम लगइबे
मंगिया सेनुर से सजइबे,

हमरे उँगरी में मुनरी पहिनावा पिया
नेहिया देखावा पिया ना
हमका मेला में चलिके घुमावा पिया
झुलनी गढ़ावा पिया ना ।

हँसुली देओ तुम गढ़ाई
चाहे केतनौ हो महंगाई,

चलिके सोनरा से कंगन देवावा पिया
हमका सजावा पिया ना ।

हमका मेला में चलिके घुमावा पिया
झुलनी गढ़ावा पिया ना ।

बाला सोने के बनवइबे
पायल चांदी के गढ़इबे,

माथबेनी औ' बेसर बनवावा पिया
झुमकिउ पहिनावा पिया ना ।

हमका मेला में चलिके घुमावा पिया
झुलनी गढ़ावा पिया ना ।

गऊरी शंकर धाम जइबे
अम्बा मईया के जुड़इबे,

इही सोम्मार रोट के चढावा पिया
धरम तू निभावा पिया ना ।

हमका मेला में चलिके घुमावा पिया
झुलनी गढ़ावा पिया ना ।