भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमरोॅ कहलोॅ तोहें मानोॅ / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमरोॅ कहलोॅ तोहें मानोॅ
कतला नै, बोचोॅ केॅ छानोॅ।

दुक्खोॅ मेॅ धीरज नै खोइयोॅ
रिषि-मुनि केरोॅ बात पुरानोॅ।

टिपटिपिया सम्मुख के टिकतै
ई मुगदर, ई लाठी-बानोॅ?

बरसाती मच्छर के भनभन
रात उतरलै चद्दर तानोॅ।

कहूँ लुटाबेॅ पारेॅ कोय्यो
सब जग्घे ठो लगै विरानोॅ।

सारस्वते तेॅ दुख के साथी
अपनोॅ लोगोॅ केॅ पहचानोॅ।