भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारा ज़िक्र और उनकी ज़ुबाँ तक/ परमानन्द शर्मा 'शरर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारा ज़िक्र और उनकी ज़बाँ तक
ज़मीं की बात पहुँची आसमाँ तक

न आप आए न कोई इत्तिला तक
तज़बज़ब में जिए कोई कहाँ तक

हमारे नाला-ए- फर्सूदा-पा की
रसाई है तुम्हारे आस्ताँ तक

गिला हम से शिकायत दूसरों से
हमारा नाम होता है कहाँ तक

हमें यों ख़ाक का पुतला न समझो
तसल्लत है हमारा आसमाँ तक

वो आए बैठे उठ के चल दिए भी
न हर्फ़े-मुद्दआ आया ज़बाँ तक

किसी की ख़ाके-पा की मेह्रबानी
हमारी दस्तरस है दो जहाँ तक

‘शरर’ क्या ख़ैर हो उस कारवाँ की
जहाँ रहज़न बना हो पासबाँ तक