भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारी आँखें / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारी आँखें
साफ़ बूँदें हैं
पानी की।

हर बूँद में मौजूद है
एक छोटी-सी निशानी
हमारी काबिलीयत की
जिसने जान डाल दी ठण्डे लोहे में।

हमारी आँखें
पानी की
साफ़ बूँदें हैं
समन्दर में इस तरह घुलीमिली
कि आप शायद ही पहचान पाएँ
बर्फ़ की सिल्ली में एक बूँद
खौलती कडाही में।

शाहकार इन आँखों का
उनकी भरपूर काबिलीयत का
यह ज़िन्दा लोहा।

इन आँखों में
पाक साफ़ आँसू
छलक नहीं पाते
गहरे समन्दर से
बिखर जाती
अगर हमारी ताकत,
तो हम कभी नहीं मिला पाते
डायनेमो को टरबाइन के साथ,
कभी तैरा नहीं पाते
इस्पात के इन पहाड़ों को पानी में
इतनी आसानी से
कि जैसे खोंखले काठ के बने हों।

शाहकार इन आँखों का
उनकी भरपूर काबिलीयत का
हमारी मुत्तहद मेहनत का
यह ज़िन्दा लोहा।

अंग्रेज़ी से अनुवाद : दिगम्बर