भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारे देश में / महमूद दरवेश / रामकृष्ण पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोग मेरे दोस्त के बारे में
बहुत बातें करते हैं
कैसे वह गया और फिर नहीं लौटा
कैसे उसने अपनी जवानी खो दी

गोलियों की बौछारों ने
उसके चेहरे और छाती को बींध डाला

बस और मत कहना
मैंने उसका घाव देखा है
मैंने उसका असर देखा है
कितना बड़ा था वह घाव

मैं हमारे दूसरे बच्चों के बारे में सोच रहा हूँ
और हर उस औरत के बारे में
जो बच्चागाड़ी लेकर चल रही है

दोस्तो, यह मत पूछो वह कब आएगा
बस यही पूछो
कि लोग कब उठेंगे

अँग्रेज़ी से अनुवाद : रामकृष्ण पाण्डेय