भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारे समय में प्रेम / मदन कश्यप

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिठ्ठियाँ तो थी नहीं की जुगा कर रखते
बस कुछ एस०एम०एस० थे

बहुत दिनों तक बचे रहे
मगर एक दिन मिटना ही था मिट गए

हमारे समय में प्रेम
कोई निशानी नहीं छोड़ता

कुछ स्मृतियाँ होती है जो बहुत दिनों तक
बरछे की तरह चुभी रहती है
धीरे धीरे उनका लोहा भी गल जाता है !