भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमें उम्मीद है बेहतर भविष्य की / कैलाश मनहर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमें उम्मीद है बेहतर भविष्य की
और हम लगातार
लड़ रहे हैं अपने वर्तमान से
सोचते यही कि करें तो क्या करें ?

एक भी शस्त्रास्त्र नहीं हमारे पास
जिसे न भेद सके शत्रु और
शास्त्र भी नहीं कोई
जिसका ज्ञान न हो शत्रुओं को ।

जो भी हैं हमारे पास
शस्त्रास्त्र और शास्त्र
शत्रुओं द्वारा ही आविष्कृत हैं और उन्हीं के
नियमों से प्रदत्त और
निर्मित भी उन्हीं की तकनीक से
उन्हीं के हित ।

जब जब भी हम भ्रमित होते हैं
इस छाया-युद्ध में
निरर्थक नष्ट होती शक्ति से दुर्बल
बहुत कम संभावनाएँ होती हैं
जीतने की
समय के विरूद्ध यह संग्राम ।

इन्हीं बहुत कम संभावनाओं में
धरती की देह पर उगा हुआ
पकड़ में आ जाता है
कोई एक तिनका और खिल पड़ती है
हल्की-सी मुस्कान
उम्मीद भरी किरण से प्रकाशित
चमकने लगती हैं
धुँधलाती हुई उदास आँखे ।

हमारे संघर्ष-सधे मजबूत पाँवों को
ईमान की हिम्मत से
मिलने लगता है, स्वतः ही एक मार्ग
धरती के आँचल में ।