भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमें भूल मत जइयो राजा जी! / बाबर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमें भूल मत जइयो, राजा जी!


ओ राजा जी! सौतन के लम्बे-लम्बे केस

उलझ मत जइयो, ओ राजा जी! हमें भूल मत जइयो...


ओ रानी जी! जाना पड़ेगा बिदेस

सन्देसा देती रहियो, ओ रानी जी! हमें भूल मत जइयो...


पूरब मत जइयो, ओ मोरे राजा! मालन के तीखे-तीखे नैन

घायल न हो जइयो, ओ राजा जी! हमें भूल मत जइयो...


दिल तो रहेगा पास तुम्हारे, नादां है कुछ मत कहियो,

सन्देसा देती रहियो, ओ रानी जी! हमें भूल मत जइयो...


पस्चिम मत जइयो, ओ मोरे राजा! पनिहारी की मतवाली चाल,

मचल मत जइयो, ओ राजा जी! हमें भूल मत जइयो...


प्यासा रहूँ पर पनघट न जाऊँ, तुम ही प्यास बुझइयो,

सन्देसा देती रहियो, ओ रानी जी! हमें भूल मत जइयो...