भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमेशा / पाब्लो नेरूदा / विनोद दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं ईर्ष्यालु नहीं हूँ
चाहे जो कुछ भी मेरे सामने आए

अपने सानो पर झुके किसी मर्द के साथ तुम आओ
अपने गेसुओं में सैकड़ों मर्दों के साथ आओ
अपने वक्षों और पाँवों के बीच
हज़ारों मर्दों के साथ आओ
डूबे हुए मर्दों से लबरेज़
उस नदी की तरह आओ
जो उद्दाम समुद्र की तरफ़ नीचे बहती है
शाश्वत समुद्री फेन की तरफ़
समय की तरफ़

वहाँ इन सबको लाओ
जहाँ मैं तुम्हारा इन्तज़ार कर रहा हूँ
फिर भी हम हमेशा अकेले ही होंगें
हमेशा मैं और तुम
अकेले इस पृथ्वी पर

अँग्रेज़ी से अनुवाद : विनोद दास