भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम और तुम-3 / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
जैसे अंधकार ढाल बनता है अंधकार की
जैसे प्रकाश मुक्त करता है प्रकाश को
वैसे ही हमने किसी क्षण अंधकार की तरह
ढाल बन कर ढँका एक-दूसरे को
और किसी क्षण प्रकाश बन कर एक-दूसरे मुक्त किया ।

इसी सब में
हमने जाना कि पत्ते के गिरने से पेड़ ही नहीं
धरती भी विचलित होती है
हमने पाया कि छोटी मेघ-बूँद भी कच्चे घड़े पर चिह्न छोड़ जाती है
हमने देखा कि तप्त तवा ही सेंक सकता है रोटी

वैसे ही
वैसे ही
हमने एक-दूसरे के तन पर
अपने चिह्न अंकित किए
सेंक कर सज्जित किया एक-दूसरे को
जब-जब मन तरु के पत्ते गिरे तो हम बिलखते रहे
सोचते रहे उस पत्ते के बिछुड़ने को ।