भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम और तुम-4 / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
हमने नासिका से नासिका पर
ललाट से ललाट पर
पुतलियों से पुतलियों पर
बरौनियों से बरौनियों पर
भौहों से भौहों पर
रोमावलि से रोमावली पर
पीठ से पीठ पर
हथेलियों से हथेलियों पर
जिह्वा से जिह्वा पर
अँगुलियों से अँगुलियों पर
दाँतों से गिन-गिन कर सघन तीक्ष्ण दँत-पंक्तियों पर अंकित किए
अपने नाम और चिह्न
पसीने से पसीने की बूँदों पर लिखा अपना होना
प्राण-वायु पर लिखा प्राण-वायु से
और उसको लौटा कर रख दिया एक दूसरे के हृदय के सकोरे में

इसी सब में
हमने जाना कि छूने से नहीं मिटते तन पर पड़े चोट के चिह्न
हमने पाया कि चूमने से भी नहीं मिटते मन पर पड़े चोट के चिह्न
हमने पाया कि कैसे भी खींची गई हो स्नेह-रेखा
उसको महाकाल भी नहीं मिटा पाता