भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम जो सड़े हुए आयामों को / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम जो
सड़े हुए आयामों को
गहरी खाई में गाड़
गज़ार बनाने को आतुर हैं,
उन-हम सब पर
पहरेदार-समय का
पहरा लगा रहा है, कि-
हमलोंगों की साँस-साँस में
कड़वाहट घुल जाये,
हम भारी पांव चलें, बहकें,
कुछ दूर चलें, गिर जायें,
लेकिन हम-जो
नंगे बदन
कुदाल-कढ़ाई लिये खड़े हैं,
आओ, पहरेदार समय की
हमलोगों से
अनमेली पोशाक छीन लें
साथ हमारे
चलने की तहज़ीव सिखादें !