भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम यहीं रहते हैं / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



हम यहीं रहते हैं

न पूछो : कहाँ ?

मनस्वी आकाश

के नीचे,

नदिया

पहाड़ों के बीच,

दुधार नदियों के साथ,

खेलते,
कूदते,

हँसते-गाते,

जीते ।

कोई है

जो हमारी

बराबरी कर सके !