भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम राजा हैं / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारी चूक से अगर दर्जनों लोगों
की हत्या हो जाए तो हम माफ़ी
नही माँगेंगे ।

हम उन अन्नदाताओं की आत्महत्या पर
चुप रहेंगे, जिनका उपजाया अनाज खा-खाकर
हमारी रगों में बढ़ता है ख़ून ।

हम शहीदों को अमर बनाने के लिए
बनाएँगे स्मारक, लेकिन उनके घर के
अन्धेरे में कभी नही झाँकेंगे ।

हम भूख से जान गँवानेवाले मज़लूमों
के लिए नही प्रकट करेगे शोक सम्वेदना,
उनकी मृत्यु को स्वाभाविक मान लेंगे ।

हम अपने सिंहासन की रक्षा के लिए
आकाश-पाताल एक कर देंगे,
यह हमारा राष्ट्रीय कर्तव्य है ।

प्रजाजनों याद रखो कि हम
राजा हैं ।