भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम सब कुछ सहते हैं / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दु;ख में होकर
निपट अकेले
हम सब कुछ सहते हैं
सुख में कोई
साथ न हो तो
फिर आँसू बहते हैं ।
जानोगे तुम
कैसी होती
मन की व्याकुलता है
पता तभी तो
चल पाता है
जब कोई छलता है ।
छले गए हम
फिर भी बोलो
-कब किससे कहते हैं ?
जब तक पंखों-
में ताकत है
दूर देश तक जाना

बाट देखता
जब तक कोई
तब तक वापस आना
देहरी पर जब
 तक है कोई
हम तब तक रहते हैं ।
-0-
21 फ़रवरी ,2010