भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम हैं किस हाल में, तुम हमसे ये पूछा न करो / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम हैं किस हाल में, तुम हमसे ये पूछा न करो
भर चुके ज़ख़्मों को इस तरह तो ताज़ा न करो
 
ये बना देंगे तुम्हें रंक कभी, राजा कभी
ख़्वाब तो ख़्वाब हैं, ख़्वाबों पर भरोसा न करो

उलझनें घर की हों जो घर ही में सुलझाओ उन्हें
यूँ सरे-आम कभी खुद का तमाशा न करो

प्यार कर लो किसी लाचार से, बेकस से फ़क़त
फिर परस्तिश किसी पत्थर की करो या न करो

राम और कृष्ण सरीखों से भी होनी न टली
कभी बेमा' नी ख़यालात में उलझा न करो

मस्ती हर शय की तो बोलेगी सदा सर चढ़कर
ज़ब्त है तुममें ज़रा भी तो यूँ बहका न करो

अक़्लमंद आज हैं दुनिया में वही तो 'दरवेश'
काम जो खुद तो करें और कहें ऐसा न करो